Wednesday, April 22, 2009

Hui YuN GamoN Ki ye shaam Aakhiri hai


Hui YuN GamoN Ki ye shaam Aakhiri hai, 
Pehna do kafan ye salaam Aakhiri hai.

YuN bhar ke ye akhiyaN, tapaktey jo aansoo,
Wo kehtey haiN peelo ye jaam Aakhiri hai.

Saffar akhiri hai kadam do mila lo,
Khuda ka diya intzaam akhiri hai.

Taraptey rahey per, sakooN tha ki itna,
Gamey ZiNdagi ka Inaam Aakhiri hai.

YuN khwaaboN meiN har pal rahey umra bhar jo,
unhi ke liye ye kalaam Aakhiri hai.




harash©


हुई यूँ ग़मों की ये शाम आखिरी है
पहना दो कफन ये सलाम आखिरी है |

यूँ भर के ये अखियाँ टपकते जो आंसू
वो कहते हैं पीलो ये जाम आखिरी है |

सफ़र आखिरी है कदम दो मिला लो
खुदा का दिया इंतजाम आखिरी है |

टपकते रहे पर, सकूं था कि इतना
गमे ज़िन्दगी का इनाम आखिरी है |

यूँ ख्वाबों में हर पल रहे उम्र भर जो
उन्ही के लिए ये कलाम आखिरी है |

महक तेरे दामन की चारों तरफ है
यूँ समझो खुदा का पयाम आखिरी है |

ये 'हर्ष' है तलबगार गुमनाम तेरा
मेरे सर यही इक इल्जाम आखिरी है |

_____हर्ष महाजन