Sunday, April 26, 2009



Mere Dil ki GehrayioN ko na chhoona

Akeli haiN, TanhayioN ko na chhoona

Har ik taar toota hai dil ka toh mere
shikistah haiN shehnayioN ko na chhoona

Nichhavar hai Tujpe ye jaaN bhi magar,
Kabhi dil ki GehrayioN ko na chhoona

Kahte hain woh ki shola-badan hooN maiN
Muzhe chhoo ke ruswayioN ko na chhoona

Tumeh yeh GumaaN hai, chhoo loge har shai par
Andhere maiN parchhayioN ko na chhoona.


harash mahajan@copyright





ग़ज़ल
मेरे दिल की गहराइयों को न छूना
अकेला हूँ , तन्हाइयों को न छूना |

हर इक साज़ मेरे दिल का है टूटा
शिकिस्ताँ हैं शहनाईयों  को न छूना |

निछावर है तुझ पे ये जाँ भी मगर अब
कभी दिल की बुराइयों का न छूना |

कहा था किसी ने कि शोला बदन हूँ
मुझे छू के रुसवाइयों लो न छूना |

तुम्हे ये गुमाँ है कि छू लोगे हर शै
अँधेरे में परछाइयों को न छूना |

_____हर्ष महाजन
beh'r
 122-122-122-122

This Ghazal is edited by shri Chaman ji on 25/06/2007