Wednesday, April 22, 2009

मुझे गम है मेरा कोई यहाँ दीवाना नहीं है


^^^^^^^^^^
^^^^^^^^^
Muzhe gum hai mera koi yahaaN dewaana nahiN hai,
Yakinan duniya ne muzhko yahaN pehchana nahiN hai.

Hua hooN para-para dekh zamaane ki adaoN ko,
Muzhe kyuiN lagta tha koi yahaaN be-gana nahiN hai.

Chale talwaaroN ki maafik zubaaN apne kareeboN ki,
Lage waise bhi ab mousam yahaaN suhaana nahiN hai.

Hue hamdard ab dushman khudaya de kafan muzhko,
YahaaN be-dard duniyaaN maiN mera thhikana nahiN hai.

Tazurba ho gaya muzhko sahe jab sholay nafrat ke,
Hui jo sazisheiN par 'harash' yahaaN anjana nahiN hai.


Harash© 




..

मुझे गम है मेरा कोई यहाँ दीवाना नहीं है
यकीनन दुनिया ने मुझको यहाँ पहचाना नहीं है । 

हुआ हूँ पारा-पारा देख ज़माने की अदाओं को
मुझे क्यूँ लगता था कोई यहाँ बेगाना नहीं है ।

चले तलवारों की माफिक जुबां अपने करीबों की
लगे वेसे भी अब मौसम यहाँ सुहाना नहीं है ।

हुए हमदर्द अब दुश्मन खुदाया दे कफन मुझको
यहाँ बे-दर्द दुनिया में मेरा ठिकाना नहीं है ।

तजुर्बा हो गया मुझको सहे जो शोले नफरत के
हुई जो साजिशें पर 'हर्ष' यहाँ अनजाना नहीं है ।


__________________हर्ष महाजन ।