Sunday, April 26, 2009

-Rukh ab hawa ka badalne laga hai

ye mousam bhi ab shola ugalne laga hai.

Jabse pata chal gaya sazishoN ka
dil kaatiloN ka dehlne laga hai.

Kab tak bhala kaid saanse rahengi,
kawach badiyoN ka pighalne laga hai.

Gumrah kab tak raheingi dishayeiN,
Tewar aasmaaN ka badalne laga hai.

Faouladi haathoN ka aisa hai jadoo,
kohre ka alam bikharne laga hai.

Tim-tim sitaroN ko chhupna hi hoga
Andhere mein suraj Nikalne laga hai.


Harash

‎..

रुख अब हवा का बदलने लगा है
ये मौसम शोला उगलने लगा है |

जब से पता चला है साजिशों का

दिल कातिलों का दहेलने लगा है ।

कब तक भला क़ैद ये साँसे रहेंगी,

कवच वादियों का पिघलने लगा है ।

गुमराह कब तक रहेंगी ये दिशाएँ,

तेवर आसमां का बदलने लगा है ।

फौलादी हवाओं का ऐसा है जादू

कोहरे का आलम बिखरने लगा है ।

टिम-टिम सितारों को छुपना ही होगा

अँधेरे में सूरज निकलने लगा है ।

__________हर्ष महाजन ।