Friday, December 23, 2011

यूँ सींचो न मेरे अहसास के बेबस हो जाऊं

यूँ सींचो न मेरे अहसास के बेबस हो जाऊं
खुद ले लूं न बनवास के अश्क भी खो जाऊं |

__________हर्ष महाजन 

Thursday, December 22, 2011

कितना अकेला हूँ मैं गम भी अब पास नहीं



कितना अकेला हूँ मैं गम भी अब मेरे पास नहीं
कैसे कहूं मैं ये सबब.....मेरे पास अल्फ़ाज़ नहीं |

___________हर्ष महाजन

Tuesday, December 20, 2011

मुझे गहराईओं का तजुर्बा अब होने लगा है

मुझे गहराईओं का तजुर्बा अब होने लगा है
उनके खोने का इक दर्द दिल में होने लगा है

इक उम्र बितायी है साथ-साथ अनजाने में
अब तन्हा बीतेगी अहसास ये होने लगा है |

__________हर्ष महाजन

Friday, December 16, 2011

Rabb waloN khushiaaN tere khyaalaaN ch vass jaave

Rabb waloN khushiaaN tere khyaalaaN ch vass jaave
Jo tere vaaste hai ne tennu rabb kann ch dass jaave
Dukha da pulinda tere janam din di khushiaaN vich

Ik-ik karke taNda vich mithayii waaNgu rass jaave


____________Harash Mahajan

Thursday, December 15, 2011

कितने तलख़ अंदाज़ हैं हम-कलम-ऑ-हम-जुबां के यहाँ 'हर्ष'


...

कितने तलख़ अंदाज़ हैं हम-कलम-ऑ-हम-जुबां के यहाँ 'हर्ष'

अपने फ़िक्र-ओ-अंदाज़ से ही शायराना कफन सा ओउड़ा देते हैं |

_______________हर्ष महाजन 

Wednesday, December 14, 2011

वो कब्र में भी मुझको जीने नहीं देता

वो कब्र में भी मुझको जीने नहीं देता
उसका तसव्वर ज़ख्म सीने नहीं देता

कितना अजीब था रिश्ता उससे मेरा
जहर उगला बहुत पर पीने नहीं देता |

________हर्ष महाजन

Sunday, December 11, 2011

Tere har safar ki raah mere dil ke dareechoN se guzarti hai

Tere har safar ki raah mere dil ke dareechoN se guzarti hai
Anjaane meiN kahiN tere paaNv ki mehendhi laal na ho jaaye

_______________________Harash Mahajan

तेरे होने का 'हर्ष' मुझे कभी भी ग़म न रहा

तेरे होने का 'हर्ष' मुझे कभी भी ग़म न रहा
मेरे रोम-रोम में तू है मुझ में ही दम न रहा |

___________हर्ष महाजन

Saturday, December 10, 2011

यूँ रूठ कर चले जाना तेरे तलख शेरो को परवाज़ न देगा 'हर्ष'

यूँ  रूठ कर चले जाना तेरे तलख शेरो को परवाज़ न देगा 'हर्ष'
दुश्मनों की तदाद का तुम्हे इल्म नहीं यहाँ आवाज़ न देगा कोई |

____________हर्ष महाजन

कब तक यूँ ही राज करते रहोगे मेरे शेरों पर ए 'हर्ष'

कब तक यूँ ही राज करते रहोगे मेरे शेरों पर ए 'हर्ष'
कहीं ये ग़ज़लें मेरी बे-वफायी का सबब न बन निकलें |

_____________हर्ष महाजन

उन्हें फुर्सत ही कहाँ वो पढ़ें हमें ख्यालों की तरह

उन्हें फुर्सत ही कहाँ वो पढ़ें हमें ख्यालों की तरह
हम तो बिखरे हैं किताबों में यूँ सवालों की तरह |

____________हर्ष महाजन 

Dil ki baateiN thi is liye sar-e-aam na kii 'Harash'

Dil ki baateiN thi 'Harash' is liye sar-e-aam na kii
tere wazood meiN hi rehta tha is liye byaan na kii.


___________Harash Mahajan

Thursday, December 8, 2011

Teri zulfoN ke saaye ne mujhe iss kader chher diya

Teri zulfoN  ke saaye ne mujhe iss kader chher diya
Qaid hua dil meiN tere jyuN salaakhoN ne Gher liya.

____________Harash Mahajan

Uske husn-o-shabaab ka mujhe Andaza katyii na tha

Dosto ek kachhi Ghazal abhi abhi zehen se utri hai abhi doosri nazer bhi nahi daali hai....aapki nazer kar raha hooN umeed hai aapke dili tassuraat jaan.ne ka ishtiyaaq rahega....Shukriyaa
*********************************************


____________________Ghazal


Uske husn-o-shabaab ka mujhe Andaza katyii na tha
Varna shikwe-o-shikayat kabhi ZubaaN par na hoti.

ye zaroori nahiN ke wafa ka deiN wafa se wo jawaab
Gar hoti na chaahat toh shikaayat kahaaN kahaaN hoti.

Ishq bala kya hai na samjha hai na samjhega koi yaaro
Gar ilm hota toh batate ke mohabbat kaise jwaaN hoti

Uski baatoN se phizaN dil  ki mahek uth.ti hai agar
Meri chaahat hai ke ho ishq mera uski zubaaN hoti .

YuN toh kehte haiN ke ud jaati haiN ishq meiN needeiN
Dil agar hota phida uspe jo ishqiyaa khubaaN hoti.



_____________Harash Mahajan

Tuesday, December 6, 2011

मुझे उसके दर्द का ख्याल इस कदर होने लगा है

मुझे उसके दर्द का ख्याल इस कदर होने लगा है
क़ैद थे वो जिस दिल में वो जार-जार रोने लगा है |

अजीब क्या है उसपे जो दिल फिदा है मेरा 'हर्ष'
हर अदा पे उसकी ये दिल भंवरों सा खोने लगा है |

जिस शिद्दत से सजाया है उसने मेरे अरमानों को
उसका वो प्यार अखियों को अश्कों से धोने लगा है |

_____________हर्ष महाजन

Har zakhm har khalish uski yaad ki paikar hai

Har zakhm har khalish uski yaad ki paikar hai
Intezaar hai ye khat us tak pahuNcha de koi.

Zalzala is kader ufaan me hai ab ruk na sakega
majboor hooN, ye baat ab usey samujha de koi

____________Harash Mahajan

Monday, December 5, 2011

KuttoN ki bhi apni ik jaat hoti hai

KuttoN ki bhi apni ik jaat hoti hai
Kutte-pan se hi unki shuruaat hoti hai
Ho jaata hai sannata unke charoN taraf
Jab-jab unki kisi se mulaqaat hoti hai.

________Harash Mahajan

Thursday, December 1, 2011

ग़ज़लों की सूरत में तुझे मिलना चाहता हूँ

ग़ज़लों की सूरत में तुझे मिलना चाहता हूँ
तसव्वर में तेरे, फूलों सा खिलना चाहता हूँ |

उम्र बीत जायेगी यूँ ही शब्दों में घुलते-घुलते
तेरी हर तहरीर में मक्ता बन ढलना चाहता हूँ |

__________हर्ष महाजन  

मुझ से मेरे कर्मों की किताब न माँगा कीजिये

...

Mujh se mere karmoN ki kitaab na maaNga keejiye

Be-wafayii toh kee par hisaab na maanga keejiye.

marey bhi toh kis se kya shikayat kareN ai 'Harash'
Jannat mili ya dojhakh ye jwaab na maaNga keejiye.



*********************************


मुझ से मेरे कर्मों की किताब न माँगा कीजिये
बे-वफायी तो की मगर हिसाब न माँगा कीजिये |

मरे भी तो किस से क्या शिकायत करें ए 'हर्ष'
जन्नत मिली या दोज़ख़ ये जवाब न माँगा कीजिये |


__________हर्ष महाजन

Tuesday, November 29, 2011

Tere ZakhmoN ke deeye ab tak jal rahe haiN

Tere ZakhmoN ke deeye ab tak jal rahe haiN
Puraane Ghaav jo hare hue ab gal rahe haiN

Ab bhi reh gayii haiN thokreN kuchh khane ko
kuchh Naye dard badi raftaar se chal rahe haiN

__________Harash Mahajan

Kitne tabiat se be-rukhi ka aNdaaz rakha hai usne

Kitne tabiat se  rakha hai usne be-rukhi ka aNdaaz
SadiaaN beet jaayeNgi usey hameiN manane meiN.


______________Harash Mahajan

Meri raahoN ke kuchh ek kadam

Meri raahoN ke kuchh ek kadam
Tere aakhiri safar meiN ab reh gaye

Ashq palkoN meiN  the jo band
Ban ke Sailaab woh ab beh gaye.

________Harash Mahajan

Monday, November 28, 2011

Tum kis kader gaaloN ko bayaaN karti ho

Tum kis kader gaaloN ko bayaaN karti ho
Qabra meiN haiN phir bhi jawaaN karti ho

Na chhuo iss tarah dil ki us Gehraayii ko
Sooni padii hai kab se kyuN raNwa karti ho

_______Harash Mahajan

Sunday, November 27, 2011

Gum meiN doobi teri GhazloN pe mann aata raha

Gum meiN doobi teri GhazloN pe mann aata raha
Tere chehre pe padi silwatoN se maza jaata raha.
 
Tere sheroN se bani dhun kabhi saazoN pe chale
Unke peechhe chhupe raazoN se saza paata raha.


_____________Harash Mahajan

Saturday, November 26, 2011

Iss tarah rooth kar mere yaar kidher jaayega

Iss tarah rooth kar mere yaar kidher jaayega
Ab ke tootega toh tu khud hi bikhar jaayega.
KyuN na hoN shikwe meri aaj ghazloN pe tujhe
Kabhi sun lega toh tu khud hi sihar jaayega....


____________ Harash Mahajan

Woh sirf kehne ka aNdaaz rakhte haiN

Woh sirf kehne ka aNdaaz rakhte haiN
Sun.na unki fitrat meiN shumaar nahiN.

__________Harash Mahajan

Uske kehne ka aNdaaz hi kuchh aisa hai 'Harash'

Uske kehne ka aNdaaz hi kuchh aisa hai 'Harash'
Uski har baat yahaaN duaaoN sa asar rakhti haiN.

__________________Harash Mahajan

DostoN ki fehrist meiN

DostoN ki fehrist meiN hamara naam kahiN kho sa chuka hai "Harash'
Anjaane chehroN ko hata kar dekho toh hamari taseeer nazer aaye.


__________________________________Harash Mahajan

Friday, November 25, 2011

Jaane teri aankhoN meiN aisa manjar kyuN hai

Jaane teri aankhoN meiN aisa manjar kyuN hai
Har shaks ke haath meiN dikhta khanjar kyuN hai

____________Harash Mahajan

MaaN

Aaj Ek shaks ki zubaani uski maaN ki durdash ki Vyatha suni.....mann bhar aaya Usey apne shabd dene ki ek koshish bhar dena chahta hooN.....Umeed hai aap apne Qeemti tassuraat se isey nwaajeiNge......

Nazm



O maaN!!!
O MaaN!!!!
MaaN teri kripa aprampaar hai
MaaN tu kahaaNhai
maiN tere bina
sach meiN adhoora hooN…….

tere hone our na hone meiN
Kitna Faraq ho gaya hai maaN
teri tasweer ko Roz
Ek Takk dekhta hooN
Nihaarta hooN
our yaad karta hooN
Woh lamhe

MaaN!!!!!
Mujhe yaad hai
Tab bhi tu roya karti thi
jab maiN chhota sa tha
Our khaana nahiN khaya karta tha….
Our maaN
tab bhi tu roya karti thi
jab maiN badaa hua
tujhe khana nahiN mila karta tha…

Toone tab bhi
mujhe kuchh nahiN kaha
Jab bachpan meiN tujhe
MaiN taNg kiya karta tha
Our maaN
toone tab bhi kuchh nahiN kaha
Jab budaape meiN
Maine tujhe Tang hote dekha

Maa !!!!
Mujhe yaad hai……
tab bhi tu
meri shararto ki
Shikayat nahi kiya karti thi,
Jab maiN ghalti karke
Ghar aaya karta tha.
Aur maaN
toone us waqt bhi shikayat nahi kee,
Jab tujh par zulm hua karta tha…..

MaaN!!!
Maine sab hote dekha
ApnoN se door hote dekha
Terii IchhaoN ki un-chaahe
balii chadte dekha
Tujhe taraste dekha
Terii aankhoN meiN
Wo ashaaye sii majboori dekhi

MaaN !!!

MaiN tera Gunahgaar hooN maaN
mujhe apni panaahoN meiN le lo
Le lo maaN!
MaiN toh tere
kadmoN ki khaak bhi nahiN
MaaN!!!!!!!!!
MaaN!!!!

Harash Mahajan

Thursday, November 24, 2011

Jhoot ke paiband ko hameshaaN

Jhoot ke paiband ko hameshaaN jaleel kiye deta hooN
Waqt mile to usey Ghazal meiN tabdeel kiye deta hooN.

_______________Harash Mahajan

Wednesday, November 23, 2011

wasle yaar bana baithhe

wasle yaar bana baithhe
Zindagi ko bhula baithhe
Kuchh din ki halchal meiN
Tujhe dil meiN saja baithe.

____Harash Mahajan

Pal-bhar meiN ik khyaal arz kar diya usne

Pal-bhar meiN ik khyaal arz kar diya usne
hoNto par mera naam darz kar diya usne
Ruswaayii ko iss kader kiya usne dar-kinaar
Merii zindagi ko hi ik karz kar diya usne.


___________Harash Mahajan

Sunday, November 20, 2011

Wo Shaks khud ko muft sulemaan kar gaya

Wo Shaks khud ko muft sulemaan kar gaya
Khud jo kiya tha zulm mere naam kar gaya

DuniyaN ko baant di hai usne is kader daleel
Adaalat bina hi mujh ko badnaam kar gaya .


_____________Harash Mahajan

Saturday, November 19, 2011

kuchh bhi poshida nahiN ahle nazer se ai dost

Wo our haiN jo Gam ko faqat gam jaante haiN
HAm toh har rishte meiN jana ram jaante haiN
kuchh bhi poshida nahiN ahle nazer se ai dost
Kis-kis ne kiya hai hisaab sirf ham jaante haiN...:)

______________harash Mahajan

Kis tarah nafrat sambhali hai teri aankhoN ne

Kis tarah nafrat sambhali hai teri aankhoN ne
  Ab be-wafayii ka aagaaz hua hai shayad .

__________Harash Mahajan

Tere Ishq meiN ye dil badii be-rukhi se Guzra

Tere Ishq meiN ye dil badii be-rukhi se Guzra
Ab zulmati yaadoN meiN waqt harja na karenge...

________________Harash Mahajan

Friday, November 18, 2011

किस तरह सलामत रखूँ ये ईमान इन गद्धारों का

किस तरह सलामत रखूँ ये ईमान इन गद्धारों का
हर तरफ धोखा धडी है फरमान इन बाजारों का |

खाली हाथ ही आये थे हम खाली हाथ ही जायेंगे
छूटेगा ईमान यहाँ सब चलेगा राज तलवारों का |

__________हर्ष महाजन

Wednesday, November 16, 2011

DuayeiN kerne waaloN se koi keh de ke baaz aa jaayeiN

DuayeiN kerne waaloN se koi keh de ke baaz aa jaayeiN
KahiN mere aakhiri saffar meiN koi Rukawat na aa jaaye.

___________________Harash Mahajan

ChahtoN ke khaate is tarah na khola keejiye

ChahtoN ke khaate is tarah na khola keejiye
RishtoN ke hisaab sar-e-aam na bola keejiye
Nafe our nuksaan ki ishq meiN koi jagah nahiN
jazbatoN ko bas dil ke tarazoo meiN tola keejiye.

________Harash Mahajan

AansuoN ki zubaaN wahi samajh paya hai

AansuoN ki zubaaN wahi samajh paya hai
Jisne har dard aansuoN meiN chhupaya hai

_____________Harash Mahajan

Tuesday, November 15, 2011

वक़्त के शोलों ने उसे इस कदर बुझाना चाहा

वक़्त के शोलों ने उसे इस कदर बुझाना चाहा
हुस्न तबाह कर उसे तवायेफों में बिठाना चाहा |

___________हर्ष महाजन

Sunday, November 13, 2011

तनहायी तबस्सुम लिए घूमती रही

तनहायी तबस्सुम लिए घूमती रही
जुदायी राज़ इसके सभी दूंद्ती रही
मुहब्बत का 'हर्ष' यही अंजाम होता है
रात लबालब आंसू लिए झूमती रही |

__________हर्ष महाजन

Saturday, November 12, 2011

Janam-Din (Aashima)

_________Janam-Din Mubarak
.....                  (Aashima)


Har kadam pe mile khushi ki bahaar Tujhe,
Dil deta Rahe yahi dua ab baar-baar Tujhe.

Zindagi ki bagiaa meiN phool khilte raheiN
Koi bhi khushi na de kabhi intezaar Tujhe

AankhoN meiN Chamakti rahe Jeet ki khushi
Har pal milti rahe apnoN ki pukaar Tujhe.

Khuda toh deta hai sabko chhappar phaad ke
Ab de janam-din par khushiaaN hazaar Tujhe.

Tum khilti raho waaldain ki khushiyoN meiN
JANAM-DIN par deiN wo dhairoN pyaar Tujhe.


_____________Harash Mahajan
++++++++++++________Neelam Mahajan

Us din toh khuda bhi Zashn manaayega

Us din toh khuda bhi Zashn manaayega
Jab wo tilismi ourat jaat ko pad paayega

___________Harash Mahajan

मुहब्बत में सनम इस तरह न झुका कीजिये

मुहब्बत में सनम इस तरह न झुका कीजिये
ज़ुल्फ़ बिखर जायेगी इस तरह न रुका कीजिये |

__________हर्ष महाजन

खून के रिश्ते ही खून के आंसू रुलाया करते हैं

खून के रिश्ते ही खून के आंसू रुलाया करते हैं

दुनिया वालों को वही रिश्ते समझाया करते हैं |



___________हर्ष महाजन

जुल्फें इस कद्र उनके रुख पे पहरा देने लगीं हैं

जुल्फें  इस कद्र उनके रुख पे पहरा देने लगीं हैं
ये आंखें फ़क़त इक झलक पाने को बहने लगीं हैं |

____________हर्ष महाजन

मेरे अश्क रुख के सफ़र में ही अब सूखने लगे

मेरे अश्क रुख के सफ़र में ही अब सूखने लगे
लगता है उनकी यादों के स्तर अब घटने लगे |

___________हर्ष महाजन

Zindagi bas un haadsoN ka silsila hai

Zindagi bas un haadsoN ka silsila hai
Gam bhi doonde kahaaN phool khila hai

_____Harash Mahajan

Friday, November 11, 2011

Wo Roz mere Kareeb aakar bas yuN hi chale jaate haiN

Wo Roz mere Kareeb aakar bas yuN hi chale jaate haiN
Unse toh unki yaad hi achhi jo aati hai our jaati hi nahiN


_______________Harash Mahajan

Thursday, November 10, 2011

aajkal Kabootar bhi ab daman ki bhasha bolne lage

Aajkal kabootar bhi ab daman ki bhasha bolne lage
Desh hit ke liye woh jism par bomb leker dolne lage

__________________Harash Mahajan

Usne mere wajood par kitne hi swaal uthha diye

Usne mere wajood par kitne hi swaal uthha diye
Dekh mohabbat duniya ki khud hi jwaab lauta diye.

____________________Harash Mahajan

sach kahooN toh Zindagi bas ik guzar-baser hai

sach kahooN toh Zindagi bas ik guzar-baser hai
Par kis tarah YaqeeN dilaooN tera kitna asar hai

________________Harash Mahajan

MaiN kitne bhi shiddat se begunaahi ka karooN zikra

MaiN kitne bhi shiddat se begunaahi ka karooN zikra
Uski shaksiat hi bas laga deti hai muh pe taale mere

______________Harash Mahajan

Wednesday, November 9, 2011

आप ताकीद करते हैं के दुश्मनी को न बयाँ करें

 
आप ताकीद करते हैं के दुश्मनी को न बयाँ करें
तुम ही बताओ 'हर्ष' अब इन बे-वफाओं का क्या करें |


_____________हर्ष महाजन

ता उम्र बितायी बच्चों संग कुछ कहने से माँ अब डरती है

ता उम्र बितायी बच्चों संग कुछ कहने से माँ अब डरती है 
चेहरे की सिलवटें मौसम का हर दर्द ब्यान अब करती हैं  |

_____________हर्ष महाजन

Tuesday, November 8, 2011

जीभा में वो धार है , सही चले तो प्यार



जीभा में वो धार है , सही चले तो प्यार,
उलट चली ये जब कभी, करती फिर संहार
करती फिर संहार,  कटे सब भाई-भाई
बुझे न फिर भी प्यास, लुटे सब पायी-पायी |
कहे 'हर्ष' कविराय, करो बात पसंदीदा
मीठे वचन निकाल, जब चलाओ तुम जीभा |

__________हर्ष महाजन

Usne shayari meiN apne aapko dil se bahoot ubhara hai

Usne shayari meiN apne aapko dil se bahoot ubhara hai
Ek safal copy paster ke roop meiN apne aapko utara hai

_____________________ Harash Mahajan

जिस थाली में खाना

जिस थाली में खाना, उसी में छेद करना उसकी आदत में शुमार था ,
किया साबित उसने शायरी की खरीद-फरोख्त में किस कदर बीमार था |

________________________हर्ष महाजन

Jis thaali meiN khaana usi meiN chhed karna uski aadat meiN shumaar tha
Kar diya saabit usne shayari ki khareed frokht meiN kis kader beemaar tha .

_______________________Harash Mahajan

Copy Paster

Usne, mere hi sheroN ko apni kalam se utaar diya
Bada hi kam-zard nikla logoN ne usey Dhikkar diya.

________________________Harash Mahajan

Sunday, November 6, 2011

कितने अज़ीअत से

कितने अज़ीअत से मैंने तुझे अपने दिल में पनाह दी
तुमने कोई भी कसर नहीं छोडी ज़हरीले गुनाह की |

____________________हर्ष महाजन

Jo tera hai karm tu uspe gumaaN kar

Jo tera hai karm tu uspe gumaaN kar
Tu kar dua wahi phir imaan maan kar.

__________ Harash Mahajan

ऐ खुदा तेरे शहर में इंसान न मिलेगा

ऐ खुदा तेरे शहर में इंसान न मिलेगा
रावण को मार सके तीर-कमान न मिलेगा |

बिकेगा सब ईमान ज़ब्त होगी वफ़ा भी
इंसान के इस शहर में इन्सान न मिलेगा |

हमने तलाश-ए-यार में बितायी उम्र ये,
मालूम न था यार क्या बे-ईमान न मिलेगा |

ये उम्र इसी हाल में कट जायेगी शायद
अब दर्द में जीने का सामान न मिलेगा |

ऐ खुदा तेरे बन्दों का क़त्ल इस तरह होगा,
दफनाने को ज़मीं पे कब्रीस्तान न मिलेगा |

सोचा तेरे शहर में तुझ सा  ही मिलेगा
न अश्क तेरी आँखों में तूफ़ान न मिलेगा |

___________हर्ष  महाजन

Friday, November 4, 2011

प्यार मैं उनसे इस कदर

प्यार मैं उनसे इस कदर करता चला जाऊं
वो ज़ख्म दिए चले जाएँ मैं भरता चला जाऊं |
उनकी ये जिद के मुझे वो मार ही डालें
मेरी ये जिद के उनपे मरता चला जाऊं |

______हर्ष महाजन

महफ़िल सज़ गयी है आज यहाँ मैं सजदा करूंगा

महफ़िल सज़ गयी है आज यहाँ मैं सजदा करूंगा
बिछाए फूल राहों में यहाँ पर खार चुन-चुन कर |

____________हर्ष महाजन

कभी वो दोस्ती की हद को भी समझा नहीं लेकिन

कभी वो दोस्ती की हद को भी समझा नहीं लेकिन
मेरी ग़ज़लों के शेरों में उसी का राज होता है |

___________हर्ष महाजन

तेरी आँखों से जब कोई अश्क गिरे

तेरी आँखों से जब कोई अश्क गिरे तो यूँ समझ लेना
मेरे दिल से तेरे दर पर नया पैगाम आया है |

_____________हर्ष महाजन

मुझे रिश्ते बनाने को यहाँ मिलता नहीं साहिल

मुझे रिश्ते बनाने को यहाँ मिलता नहीं साहिल
तेरे कूचे में गर कोई है तो उसको ये बता देना |
न पढ़ ले वो मेरी ग़ज़लें नहीं तो डूब जायेगी
अगर यूँ हो गया तो वक़्त पर मुझ से दवा लेना |

__________हर्ष महाजन


Punjaabi Geet

दोस्तों मेरा  एक पुराना पंजाबी गीत है वो मैं पेश  कर रहा हूँ ....उम्मीद है पसंद आएगा....शराब के ऐब पर कहा गया है ....आपसे अनुरोध अआप इसमें से कोई भी बंद किसी और रूप में कहीं भी इस्तेमाल न करें ........
ऐ किदाँ दा पानी ए सिद्दा सिर नु चढ़ जाऊंदा ए
ते पीडां दिल दियां ठंडियाँ कर गहरे सागर लै जाऊंदा ए

यादां उस दियां जद वी कदे बन ख्वाब सलौने औन्दे ने
चुप-चाप ओ लपटां बौतल चों बन यार दे चेहरे औन्दे ने
डिगदा मैं टैन्धा यार मेरा बौतल चों पानी पिलौन्दा ए
ते पीडां दिल दियां .........................

ऐ दर्द घोल्दियाँ कालियां रातां नागाँ वांगु शून्कदियाँ
सदके जाँवा एस बौतल दे कोयल बन यादाँ कूकदियाँ
जद होवे बौतल खाली कदे दिल बौतल विच वड जौंदा ए |
ते पीडां दिल दियां .........................

अर्थी जद मेरी निकले लोको ओ यार दी चादर पा देना
घर उसदा रस्ते आ जाए माड़ा ज्या पर्दा चाक्क देना
बोतल दा पानी भूलना नहीं ए मीठी आग लागौन्दा ए |
ते पीडां दिल दियां .........................

_______________हर्ष महाजन

आजकल मशगूल हैं

उसकी याद में हम आजकल मशगूल हैं इतना
यहाँ तो सांस लेने की भी अब फुर्सत नहीं मिलती
दीदार-ए-यार कर लेते तो यादों में कहाँ होते
यकीनन ज़ुल्म की हद तक हमें ज़ुल्मत नहीं मिलती |

______________________हर्ष Mahajan

बदलते दौर में

बदलते दौर में अब मौत पर मातम भी नहीं है
तू ढूंढें आसरा उनसे जहाँ इंसानियत ही नहीं है
देखो धूप का तो शहर मैं अब निशाँ कहाँ है 'हर्ष'
किसी भी घर में देखो आजकल आँगन ही नहीं है

_____________हर्ष महाजन
 

Be-wafa ho ke bhi mere dil meiN toohi rehti hai

Be-wafa ho ke bhi mere dil meiN abhi toohi rehti hai
Meri GhazaleiN mere ashqoN se hi abhi doobi rehti haiN
Agar hota koi bhi Ghaav toh tu mud ke dekhti

Ye ankheiN toh tere gam meiN abhi sooji rehti haiN

________________Harash Mahajan

Thursday, November 3, 2011

________Ik iltaja



Tusi apne jazbaat likho te chain aave
kuz apne dili halaat likho te chain aave
duzyaN daa likhya te har koi likh deve
Tusi apne khyalaat likho te chain aave>

__________ Harash Mahajan

Monday, October 31, 2011

हाथ मिलाने से



हाथ मिलाने से भी लोग यहाँ कतराया करते हैं
जब आन पड़ें मुसीबतें  हाथ मिलाया करते हैं |

____________हर्ष महाजन

लफ़्ज़ों का क्या

लफ़्ज़ों का क्या, यहाँ कलम, कलम की है हम-जुबां
कुछ तुम कहो कुछ हम कहें पूरी हो जायेगी दास्ताँ |

_______________हर्ष महाजन

ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --१

दोस्तों ...आदाब....मैं एक तालिब-इ-इल्म इंसान ....आज यहाँ ग़ज़ल के बारे में कुछ ज्ञान जो हमने अपने गुरुओं से पाया आपस में तकसीम करने की कोशिश कर रहा हूँ ....ये ज्ञान मेरा यानी एक कम इल्मी इंसान का  निजी ज्ञान है जो मैंने बछ्पन से इसे सींच कर पाया है ..हो सकता है आप इस ज्ञान से इत्तेफाक न रखें ....और किसी बहस के मुददे से अलग है ....कोई भी सज्जन इसे अन्यथा न ले...जितना हम जानते हैं उसी की परिचर्चा आपके सामने है...गाहे बगाहे...ये लेख  यहाँ देते रहेंगे .......यूँ तो हमने छोटी कक्षा में छंद का अध्ययन खूब किया है ...लेकिन उसे इस्तेमाल नहीं करते ......वही छंद स्वरुप हमारी ग़ज़लों का स्रोत है .....आज जिसे उर्दू छंद-शास्त्र के अर्थों में  अरूज़  कहते हैं उसमे यहीं छंद विद्यमान होते हैं |अरूज़ की भाषा में छंद को बहर कहते हैं | अरूज़ में वर्णित ३०-३५ बहरें ही ऐसी हैं जो उर्दू शायरी में प्रचलित हैं |ये सभी हिंदी=उर्दू ग़ज़लों में पराया इस्तेमाल होती हैं .....बहरों के बारे में हम आगे बताने की कोशिश करेंगे | उर्दू में शेष बहरें इस लिए अप्रचलित हैं कि इनकी रचना उर्दू भाषा कि प्रकृति और बनावट से मेल नहीं खाती तथा शेर बड़े सुस्त . लये-हीन और गद्यात्मक हो जाते हैं ..ऐसी सभी बहरों को छोड़कर बाकी उन्ही बहरों का उल्लेख करेंगे जो उर्दू शायरी में प्रचलित होने के साथ-साथ हिंदी ग़ज़ल के लिए उपयुक्त हो....|वैसे तो शायरी या कवितायी एक कठिन कला है , परन्तु प्रकृति ने जिनके अंदर इस कला के बीज स्वंय ही रोप दिए हो उनके लिए उन्हें अंकुरित और विकसित करना कोई कठिन कार्य नहीं है सभी लोगों में कवित्व का अंश न्यूनाधिक मात्र में प्राकृतिक रूप से विद्यमान रहता है, यह अंश जिन लोगों में जितना अधिक होता है वह उतने ही शीघ्र सफल कवि अथवा शायर बन जाते हैं |शायरी - कला अर्थात 'अरूज़' अपने आप में एक पूर्ण विज्ञान है , भाषा-विज्ञान अवं स्वर-विज्ञानं {गायन कला }को मिलाकर बना है | जैसा सभी जानते हैं कि विज्ञान का विषय सामान्यता थोडा अरूचिकर होता है उसे पूर्ण मनोयोग के साथ समझ-समझकर ही सीखा जा सकता है | ठीक इसी प्रकार शायरी-कला के नियमों को भी पूर्ण मनोयोग और धैर्य के साथ पढने और समझने कि आवश्यकता होती है ..ऐसा करने पर कठिन प्रतीत होने वाली बात भी आगे चलकर सरल और रूचिकर लगने लगती है |जिन्हें अपने अंदर कवित्व का अंश पर्याप्त मात्र में विद्यमान प्रतीत होता हो और उचित पर्यास के बाद शायरी कला के नीयम समझना जिन्हें रूचिकर लगे यह प्रस्तुति उन्ही के लिए है |जिन्हें शायरी के नियमों को समझना भारी लगता हो कवित्व के अंशों का कुछ अता पता न हो उन्हें इस ओर से अपना मनन हटाते हुए ईश्वर को धन्यवाद देना चाहिए कि उसने उसे इस कथित रोग से मुक्त रखा |वैसे शायरी के नीयम समझना बहूत कठिन भी नहीं हैं बस कुछ परीश्रम और धैर्य की आवश्यकता है ..आगे चल कर सभी कुछ सुगम महसूस होने लगता है |इस विषय में कुछ आगे कहा जाए शेरगोई और ग़ज़ल-सृजन के नियमों पर कुछ बात की जाए उस से पहले शायरी से सम्बंधित कुछ आवश्यक बातों की जानकारी कर ली जाए ......

कुछ जानने योग्य बातें .....

प्रश्न --- 'शेर किसे कहते हैं ?उत्तर ---शायरी के नियमों बंधी हुई दो पंक्तियों कि ऎसी काव्य रचना शेर कहते हैं जिसमें पूरा भाव या विचार व्यक्त कर दिया गया हो | 'शेर' का शाब्दिल अर्थ है --'जानना' अथवा किसी तथ्य से अवगत होना |

प्रश्न ---'मिसरा' किसे कहते हैं ?
उत्तर----शेर जिन दो पंक्तियों पर आधारित होता है उसमे से प्रत्येक पंक्ति को मिसरा कहते हैं | 'शेर' कि प्रथम पंक्ति को 'मिसरा-ए-ऊला' कहते हैं और दुसरे मिसरे को 'मिसरा-ए-सानी' कहते हैं |

प्रश्न--'काफिया' किसे कहते हैं ?
उत्तर--अनुप्रास या तुक को 'काफिया ' कहते हैं | इसके पर्योग से शेर में अत्यधिक लालित्य/लय उत्पन्न हो जाती है और इसी उद्देश्य से शेर में काफिया रखा जाता है अन्यथा कुछ विद्वानों के निकट शेर में काफिया होना आवश्यक नहीं है..परन्तु अपने गुण के कारण अब शेर में काफिया कि उपस्तिथि अनिवार्य हो गयी है |

प्रश्न --'रदीफ़' किसे कहते हैं |
उत्तर---शेर में काफिया के बाद आने वाले शब्द अथवा शब्दावली को रदीफ़ का शाब्दिक अर्थ है --'पीछे चलने वाली '| काफिया के बाद रदीफ़ के पर्योग से शेर का सौंदर्य और अधिक बढ जाता है |अन्यथा शेर में रदीफ़ का होना भी कोई आवश्यक नहीं है | रदीफ़ रहित ग़ज़ल अथवा शेरोन को 'गैर मुरद्दफ़' कहते हैं |

                                                                                                                       ........क्रमश:
_____

 नीचे के लिंक पर क्लिक कीजिये और उस पर जाइए .....

1.a
शिल्प-ज्ञान -1 a
2.ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --2 ........नज़्म और ग़ज़ल
3.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --3
4.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --4 ----कविता का श्रृंगार
5.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --५ .....दोहा क्या है ?
6.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --6
7.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --7
8.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान --8
9.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान - 9
10.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान - 10
11.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान - 11
12.
ग़ज़ल शिल्प ज्ञान - 12

Mere paas jeene ka kuchh samaan nahiN hai

Mere paas jeene ka kuchh samaan nahiN hai
kaam krodh moh toh hai abhimaan nahiN hai
meri iltaza tujh se ai khuda jo hai le lo wo bhi
Jo rahega yahaaN wo "tu" hai insaan nahiN hai.

Tu=khuda

_______________Harash Mahajan

Koi ahsaas mann ka toone jaga diya hai aaj

Koi ahsaas mann ka toone jaga diya hai aaj
mujhe jeete jee kabra pe bithha diya hai aaj
tere kahe jhoot ko ab sach maan bhi liya jaaye
Toh samajh lena khud hi diya bhujha diya hai aaj

_____Harash Mahajan

wafa ke jazbe ko ahsaan bana daala

Kuchh is tarah mousam ka aNdaaz bana daala
Khushgwaar mohabbat ko avsaan bana daala
Kudrat ne diye jab kuchh ranj-o-gam iss tarah
wafa ke jazbe ko 'harash' ahsaan bana daala.

_________________Harash Mahajan

Sunday, October 30, 2011

Ghazal

वो कहते हैं हम कब किसी से हारे हैं
दहशत गर्द तो हैं पर रेत की दीवारें हैं |

वो समझ न पाए क्या है उल्फत यारो
उन्होंने अहसास बस इधर-उधर सवारे हैं|

उनका ही घर है और उनका ही आँगन है
हमें कुछ इमदाद मिली लगा इनके सहारे हैं |

वफाओं पर भी जब धुंआ कुछ उठने लगा
देखने वालों को भी लगा किसी के इशारे हैं |  

  
हमने ग़ज़ल छेड़ी के बस हमें दाद मिले
उनके शब्दों में 'हर्ष' अभी तक अंगारे हैं |

_____________हर्ष महाजन

दिल में अहसास

मेरे दिल में अहसास का बस एक ही अहाता है
न जाने क्यूँ , वो  शख्स उसमें ही उतर जाता है |

______________हर्ष महाजन

विश्वास की पतली रेखा

मैं जानता हूँ तुमने कनखियों से मुझे देखा है
ख्याल रखना हमारे बीच विश्वास की पतली रेखा है


_____________हर्ष महाजन

कुछ श्वास आपके पास रखे हैं

मेरे हिस्से के 'हर्ष' कुछ श्वास आपके पास रखे हैं
उनका ध्यान रखना उसमे मेरे अहसास रखे हैं |

_____________हर्ष महाजन

Saturday, October 29, 2011

घर में तो आँगन नहीं है |

क्यूँ लायी हो मुझको दुनिया में तेरे पास तो दामन नहीं है
कैसे सीखूंगा घुटनों के बल चलना घर में तो आँगन नहीं है |

_________________हर्ष महाजन

Sunday, October 23, 2011

Roka na karo ye ashq

Roka na karo ye ashq, ban diwaane se
Khud.dhaari hai ye kya gila zamaane se
Laila majnu toh sar-e-aam ghoomte haiN
Zaroorat nahi kaheiN kuchh parwaane se

__________Harash Mahajan

Thursday, October 20, 2011

रेत पर लिख कर मेरा नाम

रेत पर लिख कर मेरा नाम इस कदर मिटाया तुमने
रात क्या दिन क्या तेरी ज़िन्द में भी अब रहूँ कैसे |

HasratoN ko pathhar ka darja

In hasratoN ko pathhar ka darja na de 'Harash'
ye wo nakaam mohabbat hai jo tujhe pa na saki.

________________Harash Mahajan

Wednesday, October 19, 2011

Tehzeeb

Jhuk kar milna iss dour ki tehzeeb ka sabab hai

Varna aajkal insaan ke usool hi kuchh our haiN.

Harash Mahajan

Dil ke dareechoN se

Mujhe iss tarah na ghaseeto mere dil ke dareechoN se

kahiN unke aashiaane meiN koi kharonch na aa jaaye.

Tuesday, October 18, 2011

Aashqui ke dour meiN

Aashqi ke dour meiN har pal hum uske saNg rahe

Hum mukhbari karte rahe woh dil loot kar le gaye



_________________Harash Mahajan

Dard Mujh se rooth gaye

KhushiaaN kuchh do chaar huiN kai dard mujh se rooth gaye
       be-wafa sabhi the saNg mere hamdard jo the sab chhoot gaye




_____________________Harash Mahajan

Wednesday, October 12, 2011

यकीनन आसमां से उनपे उतरेगा कहर एक दिन

यकीनन आसमां से उनपे उतरेगा कहर एक दिन
बदला करते हैं मुसलसल जो सय्याद बे-सबब |

सय्याद = शिकारी

_______________हर्ष Mahajan

qatak Hone ka intezaar

Mere aziz dost hi ab dil se ye dua karte hain 'Harash'
chalo Koi to haiN mere qatal hone ka intezaar karte haiN


____________Harash Mahajan

___________Ghazal




YuN na chhero ye gazal yaaro utar jaayegi
thhodi guzri hai ye shab our guzar jaayegi .

wo na samjhe haiN na samjheNge ye ulfat yaaro
Husn ki yadeiN na simteiN to bikhar jaayeNgi .

Neend se uthh ke phira karta hooN yaadoN maiN teri
MaiN toh jaooNga udher yaad jidher jaayegi.

usko mujh pe hai yaqeeN mujhko usper hai gumaaN
Koi dega bhi dakhal royegi mar jaayegi.

Kare tu ahtaraam dil se bhi zubaaN se kabhi
Khuda kasam tu yuN hi dil meiN utar jaayegi.


_____________Harash Mahajan

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@




___________ग़ज़ल

यूँ न छेड़ो ये ग़ज़ल यारो उतर जायेगी
थोड़ी गुजरी है ये शब् और गुज़र जायेगी |

वो न समझे हैं न समझेंगे ये उल्फत यारो
हुस्न की यादें न सिमटें तो बिखर जायेंगी |

नींद से उठ के फिरा करता हूँ यादों में तेरी
मैं तो जाऊँगा उधर याद जिधेर जायेगी |

उसको मुझ पर यकीं मुझको उसपर है गुमाँ
कोई देगा भी दखल रोयेगी मर जायेगी |

करे तू अहतराम दिल से और जुबां से कभी
खुदा कसम तू यूँ ही दिल में उतर जायेगी |

__________हर्ष महाजन

chaaNd ki be-hayaayi

Khoob waaqif hooN chaaNd ki be-hayaayi se main
kahbi de dard kabhi hamdard bane intehaayii se.

___________________Harash Mahajan

जहन को काबिज़

कर ले तू याद बन मेरे जहन को काबिज़
है कहाँ मेरे खुदा तुझ पे फ़ना ये कातिल |

अपनी बेकसी पे

अपनी बेकसी पे कभी अश्क बहाना न 'हर्ष'
ये वक़्त गुज़रा है कुछ और गुज़र जाएगा |

____________हर्ष महाजन

Zindagi ka sabab

Apni Zindagi ka to bas ek hi sabab hai 'Harash'
jab bhi maangte haiN faqat khuda hi maangte haiN.

__________Harash Mahajan

Tuesday, October 11, 2011

Rait ke danoN ko

Rait ke danoN ko iss tarah udaya nahieN karte
Muskerahat yuN hi GairoN par laya nahiN karte
jinki yaadoN ne iss kader rulaya ho zindagi bhar
Unki yaadoN ko bhi dil se lagaya nahiN karte...

___________harash Mahajan

Sunday, October 9, 2011

meri aahat per machalte ho

meri aahat per machalte ho toh bas ik khyaal sa aata hai
tum mere ho ke nahiN ho man meiN ik swaal sa aata hai

Saturday, October 8, 2011

uske khyaal ne

uske khyaal ne meri is Ghazal ko anjaam diya hai
Ye uska pyaar hai jo usne mujhe inaam diya hai

Friday, October 7, 2011

Bewajeh hotoN pe taraane nahiN aate

Bewajeh hotoN pe taraane nahiN aate
Bin- pyaar kabhi  dewaane nahiN aate
Gar Rooth jaayeiN hum dosoN se kabhi
kambakhat kabhi manaane nahiN aate

Wednesday, October 5, 2011

KyuN aaj be-piye hi hum behkane lage

KyuN aaj be-piye hi hum behkane lage
ShaaNt the jo ahsaas ab dehkne lage

Meri nazer meiN wo bahut hi ooNche the
kyuN aaj be-wazeh hi ab pheNkne lage

Unse ab mohabbat toh nahiN rahi mujhe
Jaane kyuN mere jazbaat ab sehkane lage.

Unko chaha tha bahoot magar bata na sake
Shayad dil ki baat pad ker wo chehkne lage.

_____________Harash Mahajan

Kaayeenat

Unki tasweer jab aankhoN me nazer aane lagi
Baaki sab kaayeenaat hi phir dhuNdhlaane lagi

KhanzroN koyuN bahar nikala na keejiye

KhanzroN koyuN  bahar nikala na keejiye
Baahar nikala toh wapis daala na keejiye

bahoot ghoomte haiN shaher meiN pagal
Dard ko har morh pa rab ubala na keejiye.


___________Harash Mahajan

Monday, October 3, 2011

Ankh se dil Tak

Teri aankh se ab dil tak ka safar karna chahta hooN....
Kali Khili jo dil meiN usey shazar karna chahta hooN
Harash Mahajan
 

safar

Dard bhari zindagi ne phir kaha bas itna
Zakhm unte hi haiN safar zindagi ka jitna

Sunday, September 25, 2011

माँ

दर्दो के सैलाब पलभर में चुन लेती है माँ
आह निकलने से पहले सुन लेती है माँ
सैलाब छुपा लेती है अपनी पलकों में वो
हम चाहे न चाहें खुद सपने बुन लेती है माँ |

_________हर्ष महाजन

Saturday, September 24, 2011

दुशमनी में पली दोस्ती

हर बात यूँ ही खतम नहीं हो जाती ऐ 'हर्ष'
दुश्मनी में पली दोस्ती भी यूँ ही स्वाह होती है |

________हर्ष महाजन

dil ki sair

kahiN na kahiN hamaare lafz unke dil ki sair karte haiN
jaane anjaane har lamha unse yuN  hi bair karte haiN
Qeemte toh yahaN yuN hi gir rahi haiN mohabbatoN ki
hum naahak hi aajkal apne dil ki baat zaher karte haiN.


___________________harash mahajan

हलफनामाँ

मुझ संग दुशमनी का जूनून उसे वफ़ा होने से पहेले था
मेरे हसीं ख़्वाबों का पैकर वो खफा होने से पहले था
भूल गया है वो सब कुछ वफाओं के तौर तरीके 'हर्ष'
ये सभी बातों का हलफनामाँ जुदा होने से पहले था |

____________हर्ष महाजन

घायल

ज़ुल्फ़ तेरी मांग तेरी उस पर नागिन सी लटें
घायल खुद हुआ हूँ मैं, तेरी खता कुछ भी नहीं |

________हर्ष महाजन

गजल


__________गज़लिका

अनजान सी जब गुजरी थोड़ी सी तब गुजरी
हद से तो तब गुजरी वो जिंद से जब गुजरी |

आँखों में काजल था और बालों में  संदल था
बे-मौत मारा गया जाने ख़्वाब से कब गुजरी |

कल रात वो ख्वाबों में नागिन बन डंसती रही
अब तक न कोई जिंद में ऐसी कोई शब् गुजरी |

जब यादों को भूला मैं नए साजों पे झूला मैं
वो गैरों को छोड़ आयी अब खुद पर जब गुजरी |

न ज़ुल्म करो इतना खत लिख न सको जितना
दुनिया छोड़  "हर्ष" चला हद से जब गुजरी |

______हर्ष महाजन

हर याद मीठी

हर याद मीठी बन जाये तो हर रात गुजर जाती है
प्यार में नहीं इकरार तो जिंद बे-बात गुजर जाती है |

___________हर्ष महाजन

Friday, September 23, 2011

khalish

Tere dil ki har khalish ko sanjoya maine
afsos to hua mujhe ye kya kiya maine

___________Harash Mahajan

Aitbaar

us aitbaar ka kya karooN jspe woh khara na utar saka
Sajaaye to bahoot sochi haiN usey pakadna baaki hai

_________harash mahajan

तिलिस्म

उनके इस तिलिस्म का अब क्या करें
चाँद से मुखड़े पर हमेशां हिज़ाब करते हैं |

_________हर्ष महाजन

खुशिओं की दूकान

गर हर शख्स के लिए खुशिओं की दूकान होती
यकीनन ये खुशीआं कुछ दिन की मेहमान होती
कीमत तो घट ही जाती हर चीज़ की दुनिया में
मगर हर रूह की झोली इस जहां में वीरान होती |


_________हर्ष महाजन

जो बोया है

जो बोया है अब वही तो काटने आयें हैं हम
खुदा ने यही कहा ले वही, तिलमिला नहीं |

_______हर्ष महाजन

Thursday, September 22, 2011

सांप



अपने बन कर जो उम्र भर गम दिया करते हैं उन्हें
"आस्तीन के सांप" का मुहावरा दिया  करते हैं सांप  |

____________हर्ष महाजन्

उसने अपनी असलियत को पहचान लिया है

दोस्तों एक कच्ची ग़ज़ल आपके बीच जो अभी पूरी तरह परिपक्व नहीं है......सीधे कलम से आप तक बिना कागज़ पर आये आपके समक्ष पेश है.....ये ग़ज़ल एक सज्जन की तहरीर पढ़ रहा था तो मेरी इस तहरीर ने जनम लिया ...उम्मीद है आप इसे अपनी कलम का साया देंगे....शुक्रिया|
___________________________________________________
__________ग़ज़ल

उसने अपनी असलियत को पहचान लिया है
अपने पर आज उसने इक अहसान किया है |

हर बात पर किये हैं अपनों पर ज़ुल्म बहुत
अब नहीं करेगा ऐसा उसने एलान किया है |

उसकी फितरत से वाकिफ हैं सब मिलने वाले
उसने फिर कहा मुझे नाहक बदनाम किया है |

जिस थाली में खाया हर बार छेद किया उसने
हर झूठ को देकर हवा फिर तूफ़ान किया है |

उसके और हमारे बीच अब रिश्ता ही ऐसा है
उसकी हर खता पर हमने सब कुर्बान किया है |

____________हर्ष महाजन

Tuesday, September 20, 2011

दिल का दर्द

एक अपने बड़े ही सज्जन मित्र के लिए कही ये रचना ...मात्राओं की  रेखा को लान्गती हुई यहाँ पेश करने की हिमाकत कर रहा हूँ....और उम्मीद करता हूँ के वो शख्स जहां भी हों उनके मन की दशा को पढ़ती हुई ये पंक्तिया उन्हें वापिस आने को मज़बूत करेंगी...मैं अपने साथिगन अपने हम-कला दोस्तों से दरख्वास्त करूँगा के इस कविता पर उनके भाव्बीने शब्द दरकार हैं......उम्मीद है ये कविता उनके भावों से सुसज्जित होगी............शुक्रिया  |
__________________________________________


दर्द अब इतना होने लगा दिल में है तूफ़ान
तुझ सा न कोई मिल सका कैसा तू इंसान
कैसा तू इंसान यूँ ही सब छोड़ दिया क्या ?
मन के सब बे-ईमान किसी को असर हुआ क्या ?
कहे 'हर्ष' कविराए यहाँ तो सभी कमज़र्द
आ जाओ मिल के चलेंगे भुला के सब दर्द |

____________हर्ष महाजन

Monday, September 19, 2011

कर्मों का हासिल

मेरी तहरीरों को मिटाना इतना आसां नहीं
ये मेरा यकीन है कोई दिल का गुमाँ नहीं |

चुप जुबां से जो तुमने चाहा कदर की मैंने
ये तेरे कर्मों का हासिल है मेरा ईमान नहीं |

_________हर्ष महाजन
४.०८.२०११ 

Saturday, September 17, 2011

फूल

इस गुलिस्तान में खिलने को तो फूल बहुत हैं
कोई फूल तुझ जैसा भी हो तो कोई बात बने |

हर्ष महाजन

Thursday, September 15, 2011

Beh'r par kuch prashn

1.....बहर के बारे में कई ऐसे प्रश्न हैं जो जहन में कौंधते रहते हैं ...कुछ ऐसे ही प्रश्न यहाँ  पढ़ने वालों को मदद मिल सके ..दर्ज करना चाहूगा .....
बहुत बार ये सवाल मन में आता है के क्या सभी हिंदी गज़ल और नगमें बहर में होती हैं ? या सिर्फ गज़ल ही बह'र में होती हैं ?

इसका उत्तर देते हुए बस इतना कहना चाहूँगा ...
तकरीबन पुराने गाने बहर में ही मिलते हैं कई बार traditional बह'र न होकर उन्हें खुद की किसी बहर में कहा गया है ...तभी तो उन में रवानी है और लए है | वर्ना जिस तरह वो गाये गए हैं ...अगर बहर में न हों तो गाना ही मुश्किल हो जाए |

Wednesday, September 14, 2011

बे-वफा

तेरी किन-किन बातों का हिसाब किया जाए
तू  तो अपना है  फिर क्या जवाब दिया जाए
वफायें तेरी बिक रही हैं जवानी के शिकंजे में
अब तू बता इन बे-वफाओं का क्या किया जाए

क्षणिका

नेता जी 
पत्नी और नौकरानी में 
भेद नहीं रखते हैं
वे हमेशां उदारवादी
व्यवस्था का पक्ष धरते हैं |

हर्ष महाजन

क्षणिका

बदलते माहौल में
अर्थ भी बदलने लगे हैं
ज्योतिष की आड़ में
दिल की दूकान करने लगे हैं 
हाथ देखने वाले
अब हाथ पकड़ने लगे हैं |

हर्ष महाजन

क्षणिका

फूँक फूँक कर 
पाँव रखना भी 
नाकाम हो गया |
मैं  फूंकता ही रहा 
वह बहुत दूर निकल गया |

हर्ष महाजन

Sunday, September 11, 2011

कवि-मन

मेरे दोस्तों |
आज मेरे एक मित्र कवि ने मुझ से कुछ सवाल पूछे उनका उत्तर देते हुए मन में ख्याल आया के उनका निचोढ जो भी निकला उसे कविता मंच पर दर्ज कर दूं .....मेरे मन के भाव शायद किसी और को भी अच्छे लगें .....प्रश्न कुछ इस तरह था ...कवि-मन क्या होता है ? ये कौन लोग होते हैं ?
उसके प्रश्न पूछना था मुझे मेरा वो वक्त याद आ गया जब मेरे गुरु ने मुझे दीक्षा देते वक्त एक हिदायत दी थी .........इसी कवि-मन व्यक्तित्व के बारे में |
उनका कहना था -------कवि-मन वो व्यक्ति होता है जो कोई भी बात/कविता/ग़ज़ल या और भी कोई विधा से कहते वक्त जो संदेस उसकी जुबां से निकले वो किसी व्यक्ति विशेष के लिए नहीं होना चाहिए कवि मन बिना किसी द्वेष-भाव के ख्यालों में विचरित होता है अगर वो किसी व्यक्ति की क्रियाल्कालापों के वश में आकर अपनी कृतियों को अंजाम देता है तो वो कवि-मन हो ही नहीं सकता न ही कभी कामयाबी की सीडियां चड सकता है| उस व्यक्तित्व को लोग कुछ अरसे में दिल से निकाल बहार कर देते है |
गुरु जी ने ये कहते हुए बहुत से कवियों के नाम जब गिनवाए मन विचलित सा हो उठा.....उनोने बताया के उनके किसी भी लेख या कविता में किसी के प्रति कभी कोई बैर भाव नहीं देखोगे......और ये सच भी था....कबीर/तुलसी/बुल्लेशाह.......आदि आदि....---सभी तो अपनी धुन में मस्त कहा करते थे....|कुछ भी अगर हम तंज लिखते हैं किसी व्यक्ति विशेष से परे होना चाहिए जिस से कोई भी हम-कलम व्यक्ति आहात न हो जिस से अपनी कला का अपमान हो | कला की पूजा करो ...रोज़ नमन करो....हमारी कलम अगर अपने हुनर के लिए जहर उगलेगी तो खुद ही मर जायेगी....हमें इसकी रेस्पेक्ट करनी चाहिए......अपनी लेखनी जिस से भी आप रोज़ लिखते हैं ...उसकी पूजा करनी चाहिए और ये शपथ लेनी चाहिए ...ऐ खुदा ..हे भगवान....आज हमारी कलम से किसी का मन न दुखे.......और शाम को अपनी कलम को जब विराम दो तो ये मनन करके करो ..के आज हमारी कलम कितनी शांत भावना में चली ...|

जय गुरुदेव

आपका अपना

हर्ष महाजन

छंद


दर्द कलम का बढने लगा होने लगा कोहराम
बे-सबब उन लोगों का बिकने लगा ईमान
बिकने लगा ईमान भूले सब अपनी कला को
डूब रहे तो कहे टाल तू आयी बला को
कहे "हर्ष" कविराए सभी को भूलो न फ़र्ज़
लिखने वाला लिखता रहे भुला के दर्द |
हर्ष महाजन

Friday, September 9, 2011

बे-वफ़ा कलम

मेरी ही कलम ने लिख दी आज दास्ताँ उससे जुदायी की
जो मुझ से न कर सकी वफ़ा क्या सजा दूं इस बे-वफायी की |
 
हर्ष महाजन

Thursday, September 8, 2011

तवायफों की तरह

बड़ी अजीब है ये दुनिया तवायफों की तरह
हमेशां चाहने वाले बदलती रहती है |

जिंदगी तुझे कब तक बचा के रखेगी
मौत तो रोज़ निवाले बदलती रहती है |

_____हर्ष महाजन

तब्दील

मेरा बस चले तो वक्त को तहरीरों में तब्दील कर दूं
हर गज़ल और नज़्म को अपनी कलम से अदील कर दूं |

Nazm

yahaan har waqt khushiyoN ke mele haiN 
par sabhi dukh abhi tak hamne Jhele haiN 

Kya koi wazen uthhayega  hamara yahaaN
sabko jahaaN meiN apne apne jhamele haiN... 

hameiN rashq hota hai tumhaari ab wafa per
hameiN ranj bhi hota hai us waqt ki zafa per 

per tumne kaha tum mere saath ho hameshaN
Mere dil maiN pyaar umra hai teri is raza per


harash

Ghazal

Bhoole se bhi milne ya milaane nahiN aate
jab waqt padaa dost sayaane nahiN aate.

Sach kehne ka anjaam toh maloom tha lekin,
Sach baat hai ke mujh ko bahaane nahiN aate.

Kis aas maiN kya soch ke kis baat pe jaane,
Hum roothh gaye or woh manaane nahiN aate.

shaayad tire aane ki khabar ho gayee hogi,
be-waj'h to mousam bhi suhaane nahiN aate.

Jaati nahiN duniyaa se mahek jinke sukhan ki,
Aksar hai yaqeeN aise dewaane nahiN aate.
 

Harash Mahajan

इंतज़ार है मुझे शमशान में

क्यूँ तब्दील किया तूने मुझे लाश में
तेरा भी इंतज़ार है मुझे शमशान में |
मुझे करवट लेना भी गंवारा नहीं है
ज़रा भी खोट नहीं है मेरे ईमान में ||


हर्ष महाजन

Wednesday, September 7, 2011

न हवाला दीजिए

उस दर्द का अब न हवाला दीजिए
जो जा चुका है न निकाला कीजिये
लोग लिये हुए हैं हाथों में खंजर
बे-बात न बात को उजाला दीजिए |

अपनी बात

अपनी बात कुछ इस तरह से कही जाए
खुदा के बन्दों से  सहेजता से सही जाए |

_______हर्ष महाजन

रुखसार

उसके रुखसार को तबीअत से सहला रहे हो
अब काजल मेरी ही आंख का चुरा रहे

Tuesday, September 6, 2011

ग़ज़ल शायराना

क्षमा दे रौशनी जिसमे वही है ग़ज़ल शायराना 
शाम-ए-जिंदगी में खुद क्यूँ फिसलने आ गयी

हादसों की वो इबारतें


दिख रहीं चेहरे पे उसके हादसों की वो इबारतें
इक उम्र से दिल में खडीं जो चोटों की इमारतें