Saturday, July 9, 2011

जुर्म

मेरी  हर सांस में तुम हर पल रहने लगी हो
फिर जुर्म ये उसे तुम ख्वाब कहने लगी हो