Friday, August 19, 2011

जल उठेगा देश



Anna apne desh maiN bas eko hi avtaar
Sarkari khazanoN ko khud loot rahi sarkar
khud loot rahi sarkar, par jan-jan jaag uthha hai
ley lokpaal bil haath maiN ab ik swaal uthha hai
Gar ek bhi muddha katega, na bachega koi nikamma
Jal uthhega desh sabra tere saNg-saNg anna
_________________________

अन्ना अपने देश मैं एको ही अवतार
सरकारी खजानों को खुद लूट रही सरकार
खुद लूट रही सरकार, पर जन-जन जाग उठा है
ले लोकपाल बिल हाथ में अब इक सवाल उठा है
गर एक भी मुद्दा कट गया, न बचेगा कोई निकम्मा
जल उठेगा देश सबरा, तेरे संग-संग अन्ना !

हर्ष महाजन