Sunday, August 21, 2011

युग-युग से पीड़ित देश को यारो "हर्ष " का ये नारा है

युग-युग से पीड़ित देश को यारो "हर्ष " का ये नारा है
"चलो दिल्ली चलो दिल्ली" हमें अन्ना ने पुकारा है |

हिंदू मुस्लिम सीख ईसाई सभी है इसमें झूझ रहे
गुमराह हो गयी निति व्यवस्था घोटालों में डूब रहे
निर्बल जनता पर भ्रष्टाचारी निरंकुश अत्याचार करें
रिश्वत बिन कोई काम नहीं न दो तो व्यभिचार करें |
जाग उठो ऐ भारतवासियों,संविधान ही इक सहारा है
"चलो दिल्ली चलो दिल्ली" हमें अन्ना ने पुकारा है |


युग-युग से पीड़ित देश को यारो "हर्ष " का ये नारा है
"चलो दिल्ली चलो दिल्ली" हमें अन्ना ने पुकारा है |

सूझ-भूझ और छल कपट ने संसद को अब यूँ घेरा है
लालू, अमर सिंह सरीके जैसे समिति का अब भेडा है
सारा हिन्दुस्तान देख रहा, सरकार ने अब क्या ठानी है
न समझो निर्बल जनता को अभी जोश इसमें तूफानी है
जाग उठो हो गया सवेरा भ्रष्टाचार नहीं गंवारा है
"चलो दिल्ली चलो दिल्ली" हमें अन्ना ने पुकारा है |

युग-युग से पीड़ित देश को यारो "हर्ष " का ये नारा है
"चलो दिल्ली चलो दिल्ली" हमें अन्ना ने पुकारा है |

भूली नहीं आजादी हमको सुभाष बोस बलिदानी था
सुखदेव भगत और राजगुरु की याद हमें कुर्बानी का
उनकी दी आजादी हमने संविधान से ही चलाना है
अन्ना के जन-लोकपाल को इसलिए तो लाना है |
जाग उठो और पकड़ो मशालें हिन्दुस्तान हमारा है |
"चलो दिल्ली चलो दिल्ली" हमें अन्ना ने पुकारा है |


युग-युग से पीड़ित देश को यारो "हर्ष " का ये नारा है
"चलो दिल्ली चलो दिल्ली" हमें अन्ना ने पुकारा है |