Saturday, September 17, 2011

फूल

इस गुलिस्तान में खिलने को तो फूल बहुत हैं
कोई फूल तुझ जैसा भी हो तो कोई बात बने |

हर्ष महाजन