Thursday, September 8, 2011

तब्दील

मेरा बस चले तो वक्त को तहरीरों में तब्दील कर दूं
हर गज़ल और नज़्म को अपनी कलम से अदील कर दूं |