Monday, September 5, 2011

हुस्न-ओ-शबाब

हुस्न-ओ-शबाब बिना जिंदगी जहन्नुम है
मुसलसल शराबी के लिए यही बाकी रहा

हर्ष महाजन