Sunday, September 4, 2011

बे-अदब

टूट के बिखर जाना कोई सबब नहीं
तू मेरा दोस्त है कोई बे-अदब नहीं |