Tuesday, September 6, 2011

ग़ज़ल शायराना

क्षमा दे रौशनी जिसमे वही है ग़ज़ल शायराना 
शाम-ए-जिंदगी में खुद क्यूँ फिसलने आ गयी