Wednesday, October 12, 2011

जहन को काबिज़

कर ले तू याद बन मेरे जहन को काबिज़
है कहाँ मेरे खुदा तुझ पे फ़ना ये कातिल |