Tuesday, February 21, 2012

क्षणिका _______एक बुढ़िया

ये
खँडहर भी
कभी
एक बुलंद इमारत
हुआ करती थी
एक बुढ़िया !!

हर्ष महाजन