Tuesday, February 28, 2012

आँखों देखे सारे मंज़र भूल गया



आँखों  देखे  सारे  मंज़र  भूल गया
लौटा तो अपना ही घर भूल गया  ।
_________हर्ष महाजन