Saturday, March 3, 2012

मेरे करीबी दोस्त आज मुझको ही छलने लगे हैं

मेरे करीबी दोस्त आज मुझको ही छलने लगे हैं
इल्म मुझे हो गया सांप आस्तीन में पलने लगे हैं ।

हम दें तो दें कैसे जवाब उनकी इस बे-दिली का
ख्वाब कुछ इस तरह अब  दिल में मचलने लगे हैं ।

_________________________हर्ष महाजन