Thursday, March 15, 2012

दुनिया ने मुझे किसलिए बदनाम किया है

दुनिया ने मुझे किसलिए बदनाम किया है,
वो मेरा मुक़द्दर थी इसलिए चाँद किया है ।
पहले तो बस  परदे में थी मेरी मोहब्बत,
अब तो मेरी रातों को सर-ए-आम किया है।

_______________हर्ष महाजन