Thursday, March 22, 2012

चुरा तो लिया है वो सब कुछ तुमने हमारे दिल के दरीचों से

चुरा तो लिया है वो सब कुछ तुमने हमारे दिल के दरीचों से
कहाँ से लायें वो जुबां जो बरसाए फूल मखमली बगीचों से।

_______________________________हर्ष महाजन