Saturday, March 24, 2012

तेन्नु ख्वाबां च रोज़ बुलान्वां माँ

तेन्नु ख्वाबां च रोज़ बुलान्वां माँ
मेंनू तेरा ही मुखड़ा जचदा ।
तेतों अनहद प्यार मैं पावां माँ
मेंतों प्यार न तेरा पचदा ।
मेंनू दर्शन दे के तारी माँ
मेरी अखां च डोला तेरा सजदा ।
तेन्नु ख्वाबां च रोज़ बुलान्वां माँ
मेंनू तेरा ही मुखड़ा जचदा ।
तेरी हर थां लब्दियाँ छांवां माँ
मेंनू लाल चोला तेरा लबदा ।
दस् तेन्नु  किंज बुलान्वां माँ
मेंतों छतर तेरा नैयुं सजदा ।
तेन्नु ख्वाबां च रोज़ बुलान्वां माँ
मेंनू तेरा ही मुखड़ा जचदा ।

________हर्ष महाजन