Wednesday, March 28, 2012

किस तरह कमर-तोड़ महंगायी से जूझ रहा हूँ मैं

..

किस तरह कमर-तोड़ महंगायी से जूझ रहा हूँ मैं
वो क्या जाने ये सवाल किस तरह बूझ रहा हूँ मैं ।

कितना बेबस हूँ सब्जियों के दाम पूछ रहा हूँ मैं,
पेट्रोल और श्रृंगार से हमेशां कनफ्यूस रहा हूँ  मैं ।

कितना बेवक़ूफ़ हूँ यूँ ही कर्जों में डूब रहा हूँ मैं,
ये जानते हुए, सच्चायी से ही महफूज़ रहा हूँ मैं।


______________________हर्ष महाजन