Thursday, March 15, 2012

मुसलसल ऐ खुदा तुम ख्वाहिशों को कम न करना

मुसलसल ऐ खुदा तुम ख्वाहिशों को कम न करना
मैं इजाद चाँद करूंगा तुम रातों को कम न करना ।

______________________हर्ष महाजन