Tuesday, March 13, 2012

वो तो अपनी धुन में विरह-गीत गाता रहा

वो तो अपनी धुन में विरह-गीत गाता रहा,
मेरी आँखों से धीरे-धीरे काजल जाता रहा ।

_______________हर्ष महाजन