Tuesday, April 17, 2012

अब उसका लबो-लहजा किसी तरह भी नहीं भाता मुझे

अब उसका लबो-लहजा किसी तरह भी नहीं भाता मुझे
फिर किस तरह से मैं उसे कहूं कि "वो आये मेरी कब्र पे"
_______________________हर्ष महाजन ।