Saturday, April 21, 2012

..

वो आयें मेरे ख़्वाबों में , मेरी सांस-सांस में गुज़रे
दरिया-ए-लुत्फ़ निकले जब हुस्न-ए-यार से गुज़रे ।

_______________________हर्ष महाजन ।