Tuesday, April 24, 2012

छलका दूं अपनी आँख के मैं अश्क तेरी आँख से


छलका दूं अपनी आँख के मैं अश्क तेरी आँख से
जा बेवफा अपनी कलम में ऐसा हुनर रखता हूँ मैं ।

___________________हर्ष महाजन ।