Sunday, April 22, 2012

ये हुस्न किस कदर उमड़ रहा है तेरी अदाओं में

ये हुस्न किस कदर उमड़ रहा है तेरी अदाओं में 
मैं तो इक उम्र से कसीदे पढ़ रहा हूँ तेरी चाह में ।

__________________हर्ष महाजन ।