Saturday, May 19, 2012

तेरे नक्श-ए-क़दम पे चलें ये मुनासिब नहीं

..

तेरे नक्श-ए-क़दम पे चलें ये मेरी तदबीर नहीं
खुश नसीबी खुदा की देन है मेरी ताबीर नहीं ।

________________हर्ष महाजन ।
तदबीर=किस्मत
ताबीर=ख्वाब