Thursday, May 31, 2012

चोका -उसकी चाह

चोका


उसकी चाह
मुझको ले डूबेगी
पराई है न !
किसे कहूं ये सब
कभी यूँ लगे,
सब छोड़ आएगी
मेरी खातिर !
मगर देखता हूँ ।
वो तो खुश है
अपने ही घर में
मन जले है ।
काश! वो चाहे मुझे
अपनों की तरहां !! 

__हर्ष महाजन ।