Wednesday, May 16, 2012

कहो न कितने शिकवे शिकायत हैं ज़िन्दगी से

..

कहो न कितने शिकवे शिकायत हैं ज़िन्दगी से
अब दिखावे की ज़िन्दगी की इबादत नहीं होती ।

_____________________हर्ष महाजन ।