Sunday, June 3, 2012

तू जो पल भर भी मिले शाम गुज़र जायेगी



तू जो पल भर भी मिले शाम गुज़र जायेगी
गर जो इनकार किया जान निकल जायेगी ।

अश्क गिरते हैं तेरी याद तलक जो आएगी
और इस दर्द से हर शाम निकल जायेगी ।
 
ज़ख्म नासूर बन  इलाज को तरसेंगे यहाँ
बे-वफ़ा खुद ही वफाओं को निगल जायेगी ।
  
इश्क तो तुझ से है अब कैसे इसे दफन करूँ
हुआ मैं तुझ से जुदा जान निकल जायेगी ।   
 
तेरी खामोशी मेरी जान पे बन आती है
कुछ तो बोलो रे 'हर्ष' सांस संभल जायेगी ।

___________हर्ष महाजन ।