Monday, June 18, 2012

तेरी कलम की सिसकियों ने ही तो मुझे नींद से उठाया है

...

तेरी कलम की सिसकियों ने ही तो मुझे नींद से उठाया है
वगरना मैं तो अपने फन से ही महरूम हो चला था आज ।

________________________हर्ष महाजन ।