Wednesday, June 13, 2012

सुबह-ओ-शाम मैंने बहुत पी मगर इक सरूर अभी बाकी है

..

सुबह-ओ-शाम मैंने बहुत पी मगर इक सरूर अभी बाकी है
ग़ज़लें कही बहुत पर तेरे लिए कहूं इक ज़रूर अभी बाकी है ।

____________________हर्ष महाजन