Tuesday, June 19, 2012

दिल को ऐसे ही सजा देता हूँ

..

दिल को ऐसे ही सजा देता हूँ
उनके खतों को जला देता हूँ ।

इन्तखाब उनको पसंद आये कभी
उसको कागज़ से हटा देता हूँ ।

राज़-ए-दिल जानता हूँ मैं लेकिन
खुश रहे जहां में दुआ देता हूँ ।

आग जो दिल की कभी बुझने लगे
सूखे ज़ख्मों को हवा देता हूँ ।

आज फिर उनको दुआ दी मैंने
जिनकी हर बात भुला देता हूँ ।

वो ही मज़्मूं ख़त का याद आये
आग जब दिल की बुझा देता हूँ ।

अब ये दिल राख से आबाद हुआ,
मैं खुद खुदा को दुआ देता हूँ ।

________हर्ष महाजन ।