Saturday, June 16, 2012

बदनसीबी में यहाँ लोग जिया करते हैं

..

बदनसीबी में यहाँ लोग जिया करते हैं
बेबसी  देखो  यहाँ  रोज़ पिया करते हैं ।

ज़िन्दगी जुर्म है अब जुर्म कज़ा देती है
बंद मुट्ठी में सजा रोज़ लिया करते हैं ।

जिनके घर में कभी खुशियों ने न झाँका कभी,
होके महरूम भी वो प्यार किया करते हैं ।

दिल तो उनके सर-ए-आम क़त्ल होते हैं
ज़ख्म सहते हैं मगर रोज़ सिया करते हैं । 

मेरे अशार उन्हें रोज़ मलहम देते हैं
दिल के जज़्बात कहीं वो भी जिया करते हैं

____________हर्ष महाजन ।