Friday, June 22, 2012

कुछ इस तरह से उसने मुझे नज़र अंदाज़ कर दिया

..

कुछ इस तरह से उसने मुझे नज़र अंदाज़ कर दिया
जिस तरह किसी शाक ने कोई पत्ता बर्बाद कर दिया ।

रुखसार पर टिकाया कुछ इस तरह उसने जुल्फों को
जुबां को जैसे सुलगते दिल ने बे-आवाज़ कर दिया ।

_______________________हर्ष महाजन ।