Sunday, June 3, 2012

हुआ जो तुझ से जुदा तो मुझे अहसास हुआ

..

हुआ जो तुझ से जुदा तो मुझे अहसास हुआ
दर्द क्या होता है तनहाई में विश्वास हुआ ।

तुम जो संग थे तो ज़माना भी कदर करता था
मगर जो बिछुड़े तो नादानी का अहसास हुआ ।

सुबह से शाम होती शाम से शब् फिर वो सहर
मरा मैं किस तरह हर पल वो कैसे नास हुआ ।

मुझे तो फूल समझ खुद रहे काँटों की तरह
बचाया दुनिया से अहसास मुझे ख़ास हुआ ।

हरसूं अपनों ने भी अहसासों से आज़ाद किया
ज़हन का खून हुआ जिगर का बनवास हुआ ।


______________हर्ष महाजन ।