Wednesday, June 13, 2012

मेरे ज़ख्मों को वो जी भर के सजा देते हैं

..

मेरे ज़ख्मों को वो जी भर के सजा देते हैं
जो तड़प करदे वो कम उसको मिटा देते हैं ।

मेरे दामन के वो गम अश्क दबा लें लेकिन
वो तो अब पलकों से आंसू भी गिरा देते हैं ।

पशेमाँ होके भी पत्थर से लगाया जो दिल
पर वो काँटों सा समझ दर से हटा देते हैं ।

मैं जुदा कैसे करूँ गम जो बने हैं साहिल
बन के हमदर्द वो ज़ख्मों को हवा देते हैं ।

हर कदम मेरा सवालात नज़र आता है
फिर वो शिकवे-ओ-शिकायत की दवा देते हैं ।


___________हर्ष महाजन ।