Monday, June 18, 2012

यादों से आबाद ये हवेली क्यूँ कर वीरान होने लगी

..

यादों से आबाद ये हवेली क्यूँ कर वीरान होने लगी
मेरी साँसे उल्फत की कुछ बाकी हैं ऐलान होने लगी ।

_____________________हर्ष महाजन