Thursday, July 12, 2012

जब भी मिलते हैं तो अहसास रवां होते हैं

..

जब भी मिलते हैं तो अहसास रवां होते हैं
दिल में खुशियाँ भी हैं गम साथ बयाँ होते हैं ।

दिल है बेताब सुनाने को रुदादें अपनीं,
ऐसे हालात भी आँखों में अयाँ होते हैं ।

उसने चाहा तो ये दिल है कि माना ही नहीं
दिल के हालात भी इकसार कहाँ होते हैं ।

उसकी यादों की कतारों ने न छोड़ा जब भी
होंठ सिल जाते हैं पर अश्क जुबां होते हैं ।

टूट जाएगा ये दिल शीशे सा नाज़ुक है 'हर्ष'
बे-वज़ह इश्क के चर्चे भी जहां होते हैं

___________हर्ष महाजन ।