Thursday, July 26, 2012

ज़िन्दगी को शिकवों का अब डर नहीं होता

.

ज़िन्दगी को शिकवों का अब डर नहीं होता
वफ़ा-ओ-बेवफाई पर कोई असर नहीं होता |
ये दिल आज़ाद है मेरा न रखूं मैं कोई रिश्ता
ज़माने के ग़मों संग मेरा कोई सफ़र नहीं होता |

_________________हर्ष महाजन |