Saturday, August 11, 2012

दोहे--बाबा इतनी भीड़ में कैसे करूँ सलाम

दोहे --सुफिआना

बाबा इतनी भीड़ में कैसे करूँ सलाम ,
तीजे तिल खड़ा हुआ,देखा तेरो नाम ।

रौशन सारा जग हुआ,देह हुई निष्काम,
मन के सारे भ्रम तजे ,पहुंचा मैं निज धाम ।

___________हर्ष महाजन ।