Sunday, August 19, 2012

शागिर्द बनूँगा तेरा शागिर्द बनूँगा

मेरे गुरु जी को समर्पित एक छोटा सा अहसास ..... छोटे से मुक्तक की राह से

..

शागिर्द बनूँगा तेरा शागिर्द बनूँगा,
होगी न ऐसी बात के संदिग्द बनूँगा ।
कलम से तेरी जब भी कोई हर्फ़ चलेंगे,
वो सब कही किताबों की मैं जिल्द बनूँगा ।

________________हर्ष महाजन ।