Tuesday, August 21, 2012

टूट चुका हूँ मैं औ मेरे, अहसास सब बिखर गए,


..

टूट चुका हूँ मैं औ मेरे, अहसास सब बिखर गए,
कुछ जुबां पे ठहर गए, न जाने कुछ किधर गए ।
दिल के बागबाँ में मेरे, खिलने को फूल थे बहुत
कुछ तो मेरे संग रहे, और कुछ इधर-उधर गए ।

_______________हर्ष महाजन ।

written at my timeline 4 hours before
 https://www.facebook.com/harash.mahajan