Tuesday, August 7, 2012

ना ये दिग्गजों से सीखा ना रहबरों से सीखा

..

ना ये दिग्गजों से सीखा ना रहबरों से सीखा
ये इश्क-ए-जिंदगानी तेरी ठोकरों से सीखा ।
इस इल्म की ही खातिर मै था शायरी में डूबा
पर तू इल्जाम दिए है ये सब कायरों से सीखा ।


_______________हर्ष महाजन ।