Friday, September 7, 2012

मेरे हालात पे बस आज तो कोई नज़र रख लो


..

मेरे हालात पे बस आज तो कोई नज़र रख लो,
कि जिंदा हूँ कि मुर्दा हूँ यहाँ कोई खबर रख लो |

छुपा है दिल में जो उसके हवाएं सब उगलती हैं,
हवाओं से मुखातिब हूँ कि कुछ धीमा सफ़र रख लो |

बचा गुलशन खिज़ाओं का बचे कुछ फूल डालों पर,
बुझाए प्यास जो धारा यहाँ ऐसा असर रख लो |

फ़िराक-ए-यार ने बक्शे हैं मुझको अश्क अब इतने,
कि अब दिल को सुलगती आग पे आठों पहर रख लो |

तमन्ना थी ज़नाज़ा ये उठे कूचे से यूँ उनके,
कि उनको इल्तजा करलूँ कि कुछ यादें-गुज़र रख लो |

____________________हर्ष महाजन |

फ़िराक-ए-यार=यार की जुदाई