Wednesday, October 10, 2012

मैं हूँ वो अश्के खुदा आँखों में बसर रखता हूँ

...

मैं हूँ वो अश्के खुदा आँखों में बसर रखता हूँ,
दामन में गम या ख़ुशी सबकी खबर रखता हूँ |

जब भी आँखों से मैं सैलाब बन निकलता हूँ ,
रूठी तकदीरें बदलने का असर रखता हूँ |

जब भी ज़ख्मों को वफाओं से सकूं मिलता है,
कुछ असर अपना भी आँखों में मगर रखता हूँ |

मैं हूँ नींदों से जुदा ज़ख्मी जिगर रखता हूँ ,
गम-ओ-खुशी खुद की नहीं मैं तो सफ़र रखता हूँ |

जब भी ज़ख्मों से जुदा हो पलक से गिरता हूँ ,
फ़ना भी होके मगर आँखों में गुज़र रखता हूँ |

____________________हर्ष महाजन