Wednesday, October 24, 2012

उजाले अपनी यादों के दिल के किसी कोने में रह लेने दो

...

उजाले अपनी यादों के दिल के किसी कोने में रह लेने दो,
न जाने किस वक़्त वो टीस दे दे, उन्हें यूँ ही बह लेने दो |


दुश्मन तो बहुत हैं ज़माने में ओ जमकर दुश्मनी भी करेंगे
मगर उसे करो तो यूँ करो कि दोस्ती की गुंजाइश रह लेने दो |

_______________हर्ष महाजन