Saturday, October 27, 2012

मेरी ईद मुबारक तुम ले लो सनम,

ईद के इस त्योहार पर सभी दोस्तों को ईद-मुबारक,,ईद-मुबारक,ईद-मुबारक
आओ सभी इस मौके पर इक गीत गुनगुनाएं..............

....

मेरी ईद मुबारक तुम ले लो सनम,

फिर ये चंदा फलक से उतर जाएगा |
ये तो अम्नों अमां का है मेला यहाँ,
जल्द मिल लें नहीं तो बिखर जाएगा |
मेरी ईद मुबारक ...................

रंजिश भी रहे न रहे रंज-ओ-गम

ये खिजाँ सा चमन था वो खिल जाएगा |
कोई ज़ुल्म-ओ-सितम की फिकर न करो
ये जो बिछड़ा था अल्लाह अब मिल जाएगा |
मेरी ईद मुबारक ...................

अब मिटा दो ये नफरत के शोले सभी,

नहीं तो दिल का गुलिस्ताँ उजड़ जाएगा |
ये तो अम्नों अमां की ये ईद है आज,
आओ मिसाल-ए-मुहब्बत निकल जाएगा |
मेरी ईद मुबारक ...................

_________________हर्ष महाजन