Saturday, October 6, 2012

थी बहारों की ये मजिल पर खिज़ाओं का सफ़र

...

थी बहारों की ये मजिल पर खिज़ाओं का सफ़र,
बड़ी मुश्किल से है काटा इन सजाओं का सफ़र |

तेरे गम से मेरे गम का भी सफ़र बाक़ी है,
ये न भूलो ये रकीबों की खताओं का सफ़र |

जुनून-ए-इश्क में गाफिल संग पैरों का सफ़र,
ये तो मुमकिन नहीं भूलेंगे वफाओं का सफ़र |

खुदा ने पैदा किया तब से खिजाँ से रिश्ता है,
अब तो भाता नहीं मुझको फिजाओं का सफ़र |

मेरी तो ज़िंदगी भी दर्द, मसीहा भी है दर्द,
कोई ख़्वाबों में न कर ले दुआओं का सफ़र |

_______________हर्ष महाजन